पड़ोसी से नए अंदाज में चुदवाया

 
loading...

हैलो दोस्तो, मेरा नाम ज़हरा खान है और मैं एक स्टूडेंट हूँ.. मैं आन्ध्र प्रदेश में रहती हूँ।

सॉरी.. मैं गोपनीयता के चलते अपने शहर का नाम नहीं बता सकती।

मैं जहाँ रहती हूँ वो एक पॉश कॉलोनी है और हमारे पड़ोस में भी एक ऐसी ही फैमिली रहती थी।
हम लोग भी किसी से किसी भी मायने में कम नहीं थे।

मेरे पड़ोस में एक लड़का रहता था.. उसका नाम दुर्गेश था..
दुर्गेश मेरी ही क्लास में पढ़ता था। हम दोनों का कोर्स एक ही था लेकिन कॉलेज अलग-अलग था।

हमारे घर में लड़कियों के लिए को-एजूकेशन में पढ़ने को ठीक नहीं समझा जाता।

दोस्तो, अब मैं जो बताने जा रही हूँ वो एक अजीब सी कहानी है.. जो मेरी ज़िन्दगी की हकीकत भी है।

यह एक ऐसी सच्चाई है कि जिसे मैं कभी भुला नहीं सकती।

मैं घर से निकलते वक़्त हिजाब पहनती थी जो काफी चुस्त था और उसकी वजह से मेरा जिस्म काफी नुमाया होता था।

दुर्गेश और उसके दोस्त मुझ पर गन्दे-गन्दे कमेंट्स करते थे।

जैसे ‘वाह क्या मस्त गांड है हिजाबन की..’ या ‘एक बार मिल जाए.. तो रात रंगीन हो जाए…’

मैं बड़े गौर से उनके कमेंट्स सुनती थी और मन ही मन खुश होती थी कि यह सब मेरे पीछे कितने दीवाने हैं।

एक बार मेरे अम्मी और अब्बू किसी शादी में बाहर गए तो दुर्गेश के मम्मी-पापा से मेरा ख्याल रखने को कह गए थे.. जिसे उन लोगों ने ख़ुशी से कुबूल भी कर लिया।

उस दिन सन्डे का दिन था मैं घर पर ही थी कि हमारे घर के दरवाजे की घन्टी बजी.. मैंने उठ कर दरवाज़ा खोला तो देखा सामने दुर्गेश खड़ा था।

मैं तनिक शरमाई.. फिर भी मैंने उसको अन्दर आने कह दिया।

मैं हरे रंग का सलवार-सूट पहने हुई थी।

दुर्गेश को देख कर मैंने जल्दी से सर पर दुपट्टा डाल लिया.. आखिर मैं पर्दा जो करती थी।

मैं काफी घबराई हुई थी लेकिन मुझे दुर्गेश के आने से अन्दर ही अन्दर एक मीठी सी ख़ुशी हो रही थी।
वो जिस खा जाने वाले अंदाज़ से मुझे देखता था.. मुझे अन्दर से एक गुदगुदी सी महसूस होती थी।

‘यूँ ही देखती रहोगी या कुछ बोलोगी भी ज़हरा?’

दुर्गेश ने पूछा तो मैं चौंक गई और कहा- हाँ.. बोलो दुर्गेश कैसे आना हुआ?

उस ने कहा- मम्मी ने भेजा था कि जाओ ज़हरा घर में अकेली है.. देख आओ, उसको किसी चीज़ की ज़रुरत तो नहीं…

मैं मुस्कुराई.. मैं समझ गई थी कि दुर्गेश झूठ बोल रहा है.. मम्मी ने कुछ नहीं कहा.. यह खुद मेरे चक्कर में आया है।

लेकिन मैंने उस पर यह बात ज़ाहिर नहीं होने दी और उसको बैठने को कहकर उसको चाय को पूछा.. तो उस ने मना कर दिया।

फिर हम सोफे पे बैठ गए।

दुर्गेश ने मुझसे पूछा- ज़हरा तुम्हें मुझसे डर लगता है क्या?

मैंने कहा- नहीं तो.. ऐसा तो कुछ भी नहीं है।

तो उसने पूछा- फिर तुम मुझसे बात क्यूँ नहीं करती?

मैंने कहा- ऐसा कुछ नहीं है.. वो कभी ऐसा मौका ही नहीं मिला।

तो उसने मेरे कान में शरारत से फुसफुसा कर कहा- आज तो मिल गया न मौका जान…

उसके जान कहने पर मेरे अन्दर एक झुरझुरी सी दौड़ गई..
लेकिन मैंने बनावटी नखरा दिखाते हुए कहा- हटो दुर्गेश.. यह क्या कह रहे हो।

उसने कहा- अरे तुम इतना डरती क्यूँ हो? अच्छा मुझे बताओ.. तुमने कभी सेक्स किया है या कभी किसी को सेक्स करते देखा है?

तो मैं शर्माते हुए बोली- हटो भी.. ये क्या सब पूछ रहे हो?

दुर्गेश ने मेरी जांघ पर अपना हाथ रख दिया।

मैं कुछ नहीं बोली.. उसकी हिम्मत बढ़ गई तो उसने मेरे कंधे पर भी हाथ रख दिया।

मुझे बड़ा अजीब सा महसूस हो रहा था.. ज़िन्दगी में पहली बार कोई लड़का मुझे छू रहा रहा था।

मैं सुरूर में आ गई और दुर्गेश सलवार के ऊपर से मेरी चूत सहलाने लगा।

मैंने बनावटी मना किया और फिर उसने मुझे गर्दन पर चुम्बन करना चालू कर दिया।

मेरे मुँह से सिसकारी निकल गई- स्स्स्स दुर्गेश आह्ह्ह..

वो बोला- हाँ.. मेरी रानी.. कब से तुम्हें पाने का ख्वाब देख रहा था.. आज तुझे चोद कर अपना सपना पूरा करूंगा।

मैं चुप रही उसने मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिए।

कितना अजीब लग रहा था एक गैर मर्द के सामने मैं नंगी हो रही थी और वो मेरे जिस्म से खेल रहा था।
उसकी आँखों में एक वहशी जानवर की तरह मुस्कराहट थी।
मैं समझ रही थी.. ये सिर्फ मुझसे मज़े लेना चाहता है।

मैं भी तो यही चाहती थी.. सो उसका साथ देने लगी।
फिर दुर्गेश ने मुझको पूरा नंगा कर के अपनी पैन्ट भी उतार दी और फिर जैसे ही उसने अपनी अंडरवियर उतारी.. उसका लंड ‘फक्क’ से उछल कर बाहर आ गया.. या खुदा.. मैं तो देख कर डर ही गई थी।
दुर्गेश का एकदम काला लंड कितना भारी और मोटा-ताज़ा.. लम्बा था…

फिर दुर्गेश के लंड को देख कर मेरी आँखों में एक चमक सी आ गई।

दुर्गेश बोला- ज़हरा.. इसको हाथ में लो और हिलाओ।

मैं उसके लंड को हाथ में पकड़ कर ऊपर-नीचे करने लगी।

फिर दुर्गेश बोला- ज़हरा….

मैंने कहा- हाँ.. दुर्गेश?

‘अब इसको ज़रा मुँह में भी ले कर देख लो जहरा…’

‘नहीं दुर्गेश प्लीज..’

‘प्लीज ज़हरा.. मान जाओ.. एक बार चूस कर तो देखो.. कितना मज़ा आता है..’

मैं मान गई.. मैंने दुर्गेश का मोटा-काला ‘अनकट’ लंड.. अपने मुँह में ले कर चूसना शुरू कर दिया.. दुर्गेश तो झूमने लगा।

मेरे चूसते ही ऐसा लगा मानो.. मैं उसके लंड को चूस कर उसके पूरे जिस्म को कंट्रोल कर रही हूँ।

मैंने उसके लवड़े को हलक के अन्दर तक ले लिया और वो मेरे मुँह में झटके मारने लगा।

फिर कुछ देर तक अपना लंड चुसवाने के बाद दुर्गेश ने मुझे सीधा लिटा दिया और मेरी टाँगें फैला कर अपना मुँह मेरी चूत पर लाया और मेरी चूत चाटनी शुरू कर दी।

यकीन मानिए.. दुर्गेश मुझे अपनी जुबान से चोद रहा था।

मैं तो मानो जन्नत में ही पहुँच गई।

फिर दुर्गेश ने मुझे उल्टा लिटा दिया और मेरे पीछे से देख कर बोला- साली.. क्या मस्त गांड है इसकी….

मुझे लगा कहीं वो पीछे से मेरी गांड में ही न लंड पेल दे.. लेकिन उस हरजाई ने पीछे से भी मेरी चूत में ही लंड डाला और झटके देने लगा।

मुझे तो मानो नशा सा चढ़ गया मैं कुछ बोल ही नहीं पा रही थी.. बस आँखें बंद करके दुर्गेश का मोटा-लम्बा लंड अपनी गहराइयों में जाता महसूस कर रही थी और पीछे से दुर्गेश अजीब-अजीब सा बोल रहा था, जो मुझमे अजीब अहसास जगा रहे थे।
जैसे ‘आह रंडी आज हाथ लगी है आज.. इसको सारा दिन चोदूँगा.. आदि..’

फिर दुर्गेश ने मुझे बिस्तर पर सीधा लिटा दिया और मुझसे कहने लगा- ज़हरा डार्लिंग.. अपनी टाँगें फैलाओ।

मैंने वैसा ही किया.. फिर क्या था दुर्गेश ने अपना लंड सामने से मेरी चूत में डाल दिया और झटके देने लगा।

उफ़ अल्लाह.. क्या जन्नत का एहसास था.. मैं तो मज़े के मारे मानो बेहोश सी हुई जा रही थी.. और दुर्गेश लगातार झटके पे झटके मार रहा था।

मैंने उसको जोर से पकड़ लिया था और मेरे हाथ उसकी पीठ पर थे और मैं उसके छाती पर लगातार चुम्बन कर रही थी।

वो मुझे दीवानों की तरह चोद रहा था.. वो लगातार झटके मार रहा था। उसने मेरे गोरे आम दबा-दबा के लाल कर दिए थे और शायद ही मेरे जिस्म का कोई हिस्सा ऐसा बचा होगा जिस पर उसने चुम्बन न किया हो या जिसको उसने रगड़ा न हो…

मैं इस दौरान दो बार झड़ चुकी थी.. अचानक दुर्गेश ने मुझे जोर से पकड़ लिया और झटकों की रफ्तार कई गुना बढ़ा दी.. मैं समझ गई कि दुर्गेश अब झड़ने वाला है।

उसने मुझसे पूछा- ज़हरा जान.. कहाँ निकालूँ.. बाहर या अन्दर..?

मैंने कहा- नहीं.. अन्दर नहीं.. प्लीज.. मैं पेट से न हो जाऊँ।

तो दुर्गेश ने कहा- ठीक है एक शर्त पर बाहर निकालूँगा.. तुम्हें मेरा वीर्य अपने मुँह में ले कर पीना होगा।

मैंने कहा- छी: गंदे कहीं के…

इस पर वो बोला- तो ठीक है गर्भवती होने के लिए तैयार हो जाओ।

मैं डर गई और कहा- मैं मुँह में लेने को तैयार हूँ।

यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

उसने तेज़ी से साथ झटके लेते हुए मुझसे बैठ जाने को कहा.. मैं तेज़ी से पूरी ईमानदारी के साथ घुटनों के बल बैठ गई।

फिर क्या था दुर्गेश ने फव्वारा मेरे मुँह पर मार दिया.. जिसको मुझे पीना पड़ा।

मैंने उसका लंड मुँह में ले कर साफ कर दिया।
मुझे उस वक़्त यह सब करना बड़ा बुरा लगा लेकिन बाद में जब उसका ख्याल आया तो बड़ा मज़ा आने लगा..

तब से अब तक मैं कई बार दुर्गेश से चुदवा चुकी हूँ और अक्सर वो मेरे मुँह में ही झड़ता है।
मुझे भी उसका वीर्य मुँह में लेने में बड़ा मज़ा आता है।

अगली कहानी में मैं आपको बताऊँगी कि किस तरह मैंने दुर्गेश के दो और दोस्तों से एक साथ चुदवाया.. जी हाँ महेश और रविंदर ठाकुर ने मेरा गैंग-बैंग किया….

मज़ा आ गया था दोस्तो.. दो लंड एक साथ ले कर..

मेरी अगली कहानी का इंतज़ार करें।



loading...

और कहानिया

loading...


Online porn video at mobile phone


xxx randi kuli cudaiek ek karke sab ko choda chupke chupke gand fadi hindi storyशराब के नशे मे मुझे जमकर चोद दियाmoti vidhwa ma bete ne bur chuda hindi mesex khani story hindi me pornक्सनक्सक्स कॉमmere bete ko meri gand ka ghuu pasand h sexy storysaxy khane.comsexy कहानियाँहिंदी xxx कहानियाँxxxxx pattni ke n rhne prgroup xxx hindi kahaniसाली।रनड़ीsexy story videoKAMUKTA.COMबिहारी औरत कि रसिलि बुरladki aur mama free hot kahani hindixxxindian sexy storiesमा को चोदते रह मै खेत मेsal ki mausi ki chudai ki kahani Hindi maikutte se sex kahaniझाट बनाती हुई आंटीkamukta indian hindi sexसेक्सी रुचि चुत चोदाई रात वीर्य फोटोकूते।लड़की।सेकसी।काहनीMaa ki kacchhi khol bur me lund gaand suhaagraat ki hindi font chudai kahaniyankamutk com kndian six hindi adio andदुनीया कि सबसे फिगर की लड़की नग गीhindisxestroyxxx.kahni.bahin.kai.bartada.par.xx.kiyasavita ki photoShower mi nhate hui chudai xxxxchut storyxxx saxi hinde khaniyanmharati suhagrt khane dot comकाबुक्ता सेक्सि कहानियाChidaiki lambi kahaniya hindimeमदहोश करने वाला हिन्दी गंदी गालियो का सेक्स वीडियोtamanna chutkistoryhindisxestroybadi behanko chodate chotine dekha kahaniमाँ उसकी बहिण कि चुत का समारोहsex xnxx kahaniइंडियन सेक्सी देहाती गोरी चिट्टीमहिला की चुद में लडेगाव के मा बेटै कि शैकश विडियो fool hdsexy bosda ki hidi kahaniपडोसन बोली अपने बेटे को ट्राय करले सेक्स कथाmastramsexykahaneyawww.kamukta.dot comsexi galski muth marke sudaiPunjaben Nukrani De Fudi Mari Khet Ch Sexy Story In PunjabihindisxestroyKhet Ch Fudi Marwaye Punjabi Sexy Storychoti ladki ki bade lang se chodai.comसालि जिजा नुकसे कहानि फोटोsex teen puci chodai trinsaxxy xnxx jangli kahaniसैकसी वीडियो लोडिग मको थी जीBhabhi ka picha sa uroj pakad ker kiss or Chudai kisexy video HD dusre Mard Ki Sath Pakdi jane waliवेवी बच्चा बूर से निकल ने वाला सेक्स विडियोदीदी और चूसो सेक्सी कहानियाँचुदाई की कहानीसदी में मेरे अंकल ने दोस्त बनके प्यार से छोडा सेक्स फोटोxxxkahanihindibapmarriedbhan ki chut mare storyxxx hot sexy storiyaxxxindian sexy storiesxxx maa beta kahani hindi sex utopप्रेग्नेंट प्रेग्नेंट की वीडियो सेक्सी हिंदी आवाज में चिल्लाने वालीfamily me biwi ke sath saas ki chudai kiXX.tai beta sex storyhin xxx stoxnxx hot anthi padosan walidownload vrigin indin sex vidiosax hindi storyउर्दू की रंगीन कहानियांpornonlain.ruAntarvasna jeth jiTeri biwi randi yum storykamukta kahaniXXX HINDI STORYwww मराठी चावट कथा.combhatije rat me jabrdasti chodadesi xxx sexy kahani hindi bhabhi kakasarpanch.ke.bebe.ke.chodae.hende.storyलङकी के बूर मे चेदा और बचचा गिरा दिया xx vidoskamukta dot comx** video mote Chu Che blouse Mein shadi Mein bhabhi video naya video bhabhi chudai Hindi naya videomy sex story.com chut ki khujli mitai bhanje nexxx sex mai januar kea sath chudai ke khaniनशे में मां की चूत चोदी एक्स एक्स एक्सkamvali bai aur me sexy stories antarvasanajabardaati chut chati or naga kiya xnxx videomaa.ki.gand.mari